ભાષાઓની મરણપથારી

યુનેસ્કોના એક અહેવાલ પ્રમાણે અત્યારે દુનિયામાં ૭૦૦૦ થી વધારે ભાષાઓ અસ્તિત્વમાં છે. જો અત્યારે કોઈ પણ પ્રયત્નો કરવામાં નહિ આવે તો ઈ.સ. ૨૧૦૦ સુધીમાં તેમાંથી અડધી ભાષાઓ લુપ્ત થવાના આરે છે. અને આ આંકડો લુપ્ત થતી સજીવ પ્રજાતિના દર કરતા ક્યાંય વધારે છે. લગભગ બમણો…!!!  આમાંથી ભારતમાં જ લગભગ ૧૯૦ જેટલી ભાષાનો લુપ્ત થવાના આરે છે.

ગુજરાતી પણ ઝડપભેર એ તરફ દોરાઈ રહી છે. જેમ કે ગુજરાતી ભાષાના અક્ષરો “ળ” અને “ણ” જેવા વિશિષ્ટ મૂળાક્ષરો પોતાનું અસ્તિત્વ ગુમાવી રહ્યા છે. જેમ કે “મેળો” ને બદલે “મેડો” અને “નળ” ને બદલે “નડ” બહુ જ પ્રચલિત છે. અને આ કોઈ વિચલન નથી પણ સમગ્ર ગુજરાતમાં પ્રચલિત થતું જાય છે. અને એવું નથી કે ફક્ત બોલવામાં જ આમ થાય છે પણ લોકોએ લખવાનું પણ એમ જ ‘ચાલુ’ કરી દીધું છે.

ભાષા લુપ્ત થવાના કારણોમાં આર્થિક વિકાસ મુખ્ય છે. તે ઉપરાંત, બીજી સંસ્કૃતિનું આક્રમણ, સ્થાનિક લોકોની વસ્તીમાં ઘટાડો, લોકોનો ભાષા પ્રત્યે લગાવ વગેરે મુખ્ય છે. અને ગુજરાતીઓને તો ઈંગ્લીશ,અંગ્રેજીનું તો એવું ઘેલું લાગેલું છે કે આપણે સામે ચાલીને વિદેશી ભાષા સામે ઘૂંટણિયે પડવા માટે થનગની રહ્યા હોય.

કઈ ભાષા સારી અને વધુ ઉપયોગી છે તેની લાંબી ચર્ચા થઈ શકે તેમ છે. પણ મૂળ વગર ઝાડ ટકાવવું કઠણ છે. હવે તો ઈન્ટરનેટ પર પણ એટલી માહિતી આપણી પોતાની ભાષામાં ઉપલબ્ધ છે અને વધી રહી છે કે ગુજરાતીને ટકાવી રાખવામાં આપણને કોઈ વ્યક્તિગત ખોટ તો નથી જ.

હવે કરવું શું?
ભાષાને બચાવવા સાહેબ આપણને મદદ નહિ કરે, સાહેબ. આપણે જ આપણી ભાષાઓને બચાવવા અને આપણી અસ્મિતા માટે પ્રયત્નો કરવા રહ્યા.

Tagged with: , , , , ,
Posted in ગુજરાતી

મોખડાજી ગોહિલ

 

આમ તો ગોહિલવાડની ધરતી સંતો અને શૂરવીરોની ધરતી કે’વાય. એવી ગોહિલવાડની ધરા પર પાકેલો એક નરકેસરી એટલે મોખડાજી ગોહિલ.
તે મોહમ્મદ-બિન-તુઘલક ના સમકાલીન હતા એટલે 13મી સદીના. તેઓ સેજકજી ગોહિલ, જેઓ રાજસ્થાનના ખારગઢના જાગીરદાર હતા, તેમના પોત્ર હતા. સેજકજી 13મી સદીમાં ખારગઢથી સૌરાષ્ટ્રમાં આવીને વસ્યા. સેજકજી ના પુત્ર રાણાજી જે અત્યારના ધંધુકા નજીક એક નાની જાગીરના જાગીરદાર હતા  અને તેમના પુત્ર આ મોખડાજી દાદા. રાણાજી અલ્લાઉદ્દીન ખીજલીની સેના સામે લડાઈમાં વીરગતિ પામ્યા ત્યારે મોખડાજીને સુરક્ષિત રીતે ધોલેરા સ્થળાંતરીત કરાયા. તેમનો ઉછેર ધનમેર ઠાકોર દ્વારા કરાયો. ધનમેર ઠાકોર ખંભાતના હતા અને તેમની નૌસેના પ્રચંડ શક્તિ ધરાવતી હતી અને ખંભાતના અખાતમાં તેમની ધાક હતી.
ઠાકોરજી વૃદ્ધાવસ્થા પ્રાપ્ત કરવાથી રાજપાટ યુવાન વયના મોખડાજીને સોંપીને તેઓ હિમાલય ચાલ્યા ગયા. તે સમયે પણ મોખડાજી તેમની સાથે હિમાલય ગયા અને પાછા ફરતી વખતે દિલ્લી થઇ આવ્યા જ્યાં તેમની ભેટ ખુશરો ખાન સાથે થઇ જેમણે મોખડાજીને લડાઈ માટે તૈયારી કરવાનું જણાવ્યું.

Mokhadaji Gohil
પાછા ફરીને તેમને નૌશક્તિમાં વધારો કર્યો અને ઘોઘા કબજે કરીને પીરમબેટને પોતાની રાજધાની બનાવી અને ત્યાં જતા રહ્યા. તેમને દિલ્લી સલ્તનતનો ખજાનો ખંભાતના અખાતમાંથી અરબ દેશ તરફ જવાની માહિતી મળતા ખજાનો લુટી લીધો. તે સમયે મોહમ્મદ-બિન-તુઘલક દિલ્લીનો બાદશાહ હતો. તેમને વખતો-વખત આવી લુંટ ચલાવી અને પોતાની નૌસેનીક શક્તિ ખુબ જ વધારી.
તેમણે તળાજાના જેઠવાને હરાવી તેને કબજે કર્યું અને રાજપીપળાની રાજકુવરીને  પરણ્યા. હવે ભરૂચ થી સોમનાથ સુધી સમુદ્રી સીમા તેમના વર્ચસ્વ હેઠળ હતી. સ્થાનિક શાસકો પણ તેમને સમર્થન કરી તેમની સાથે આવ્યા અને તેઓ પોતાનું રાજ પીરમબેટ અને ચાંચ બેટ થી ચલાવતા હતા. તેઓ દિલ્લી સલ્તનત સામે બળવો કરી તેમનો ખજાનો લોનતા રહ્યા. તેઓ ચાંચીયા કે’વાયા. સમુદ્રી લુટારા માટે ચાંચીયા નામનો પર્યાય પણ તેને લીધે જ થયો.
દિલ્લી સલ્તનત માટે સમુદ્રી માર્ગે વ્યાપાર દુષ્કર બન્યો કારણ…. મોખડાજી ગોહિલ.. તેણે મોખડાજી ને હરાવવા તેના પર હુમલો કરવા સેનાપતિને આદેશ કર્યો અને સેનાપતિએ પીરમબેટને ઘેરવા પ્રયાસ કર્યો અને મોખડાજીની અનુભવી નૌસેનાએ ગણતરીના દિવસોમાં જ તેના આક્રમણખોરોને પરાસ્ત કર્યા.

પછી મોહમ્મદ-બિન-તુઘલક પોતે ગુજરાત આવ્યો. ઘોઘાને પડાવ બનાવી ઘણા મહિના પ્રયાસ કર્યો પણ તે ફાવ્યો નહિ. તેને ખબર હતી કે જમીન પર લડાઈ થાય તો તેમને હરાવવા સહેલા છે કારણ કે તેની પાસે વિશાળ સેના હતી. છેલ્લે થાકીને તેને એક વેપારીને પીરમબેટ મોકલ્યો અને તેને મોખડાજીને  જણાવ્યું કે તુઘલકની સેનાને લીધે વેપારમાં સમસ્યાઓ છે અને તમારી સાથે યુદ્ધ કર્યા વગર તે જશે નહિ. તરત જ મોખાડાજીએ સેનાને આદેશ આપ્યો કે હવે યુદ્ધ ઘોઘાના દરિયા કિનારે કરવા તૈયારી કરો. એ સમયે તેમને પરિણામની પણ ખબર હતી.
ખુબ ઘાયલ થવા છતાં દિવસો સુધી તેઓ લડતા રહ્યા. છેલ્લા સમયે લડાઈમાં તેમનું માથું ઘોઘાના પાદરમાં ધડથી અલગ થયું અને તેમ છતાં તેઓ લડતા રહ્યા અને છેક ખાદરપુરમાં તેઓ ઢળી પડ્યા. ઘોઘાથી ખાદરપુર અત્યારે 30 કી.મી. થાય છે. તે સમયે લોકો કહેતા કે દસ ગાવ સુધી તેઓ માથા વગર લડ્યા તા.
આ જોઇને મોહમ્મદ-બિન-તુઘલક પણ અસ્વસ્થ થયેલો અને કેટલાય દિવસો સુધી તે ઊંઘી શક્યો નો’તો.

Posted in Uncategorized

Narsinh Mehta – From the View of Science

Narsinh Mehta was a poet of Gujarati. Actually he was the first poet of Gujarati, that’s why he is called ” Aadyakavi(GUJ-આદ્યકવિ)”. His poetry has many scientific views. Have a look at this PDF. —>>> Narsinh Mehta

Tagged with: , , , , , , , , ,
Posted in ગુજરાતી, Science

Maharaj Krishnkumarsinhji of Bhavnagar (મહારાજા કૃષ્ણકુમારસિંહજીએ રાજની રૈયત સાથે ગરબીની રમઝટ બોલાવી )

એક પ્રસંગ

ભારતની ધરતી માથે આઝાદીના અજવાળા ઊતર્યાં ઈ મોર્ય સૌરાષ્ટ્રમાં થઈ ગયેલાં જાણીતા રાજકૂળોમાંનું એક મહત્ત્વનું ગોહિલ રાજકૂળ છે. ઇતિહાસના જર્જરિત પાનાં બોલે છે કે સેજકજી ગોહિલે ૧૨મી ૧૩મી સદીમાં ખેરગઢથી આવીને પાંચાળની ધરતી પર ‘સેજકજી’ ગામનું તોરણ બાંધી ત્યાં રાજધાની સ્થાપી. ગોહિલોની રાજધાની સમયાન્તરે ઘોઘા, ઉમરાળા અને શિહોરમાં ફરતી રહી. એ પછી પરાક્રમી અને પ્રજાવત્સલ રાજવી ભાવસિંહજીએ ઈ.સ. ૧૭૨૩માં ભાવનગરની સ્થાપના કરી રાજધાનીનું શહેર બનાવ્યું. આઝાદી પછી દેશના નાના મોટા રાજ્યોનું ભારતમાં વિલીનીકરણ થયું ત્યારે ભાવનગર પ્રથમ વર્ગનું સલામી રાજ્ય હતું. એ વખતે દસ લાખ રૂપિયાનું સાલિયાણું મળતું હતું. મારે આજે ભાવનગર રાજ્ય કે સાલિયાણાની નહીં પણ જેમની જન્મશતાબ્દી ધામઘૂમથી ઉજવાઈ રહી છે એવા ભાવેણા (ભાવનગર)ના પ્રજાવત્સલ મહારાજા કૃષ્ણકુમારસિંહજીના જીવનના વણસ્પર્શ્યા પ્રસંગો અને ઘટનાઓની વાત કરવી છે.
૧૯ મે ૧૯૧૨માં જન્મેલા રાજવીનું જન્મશતાબ્દી વર્ષ ઉજવવા ભાવનગર મહાનગરપાલિકાના મેયરશ્રીના અઘ્યક્ષપદે નીમાયેલ મહોત્સવ સમિતિએ નિલમબાગ ચોકમાં મહારાજા સાહેબની પ્રતિમાને ફૂલહાર કરી એક વર્ષ સુધીના કાર્યક્રમોનું આયોજન કર્યું છે. તેમના અવસાનના ૪૬ વર્ષ પછી એ પ્રજા આ રાજવીને ભૂલી નથી. એમની દિલાવરી, દાતારી, સત્કર્મો, સુવહીવટ અને પ્રજાકલ્યાણની ભાવનાને સમર્પણશીલતાને આજેય સહુ યાદ કરે છે. ભાવનગરના વિદ્વાન પ્રાઘ્યાપક અને પ્રિ. ડૉ. ગંભીરસિંહજી ગોહિલ આ સત્ત્વશીલ રાજવીનું જીવનચરિત્ર તૈયાર કરી રહ્યા છે.
ઈ.સ. ૧૯૧૯માં મહારાજા ભાવસિંહજીનું અકાળ અવસાન થયું ત્યારે યુવરાજ કૃષ્ણકુમારસિંહજીની ઉંમર ૭ વર્ષની હતી. તેમની સગીર અવસ્થા દરમ્યાન ઇંગ્લેન્ડ ખાતેની ઉચ્ચ કારકીર્દિ જતી કરીને ભાવનગર આવેલા સર પ્રભાશંકર પટ્ટણીના અઘ્યક્ષસ્થાને રચાયેલી વહીવટી સમિતિએ રાજ્યનો કારોબાર સંભાળી લીધો.

Maharaj Krushnkumarsinhji

Maharaj Krushnkumarsinhji

બાર તેર વર્ષની ઉંમરે ભાવનગર આવેલા ગાંધીજી સાથે કૃષ્ણકુમારસિંહજીની મુલાકાત યોજાઈ. જેમનાથી તેઓ ઘણા પ્રભાવિત થયા. દીર્ઘદ્રષ્ટા રાજનીતિજ્ઞ અને વિચક્ષણ બૌદ્ધિક સર પ્રભાશંકર પટ્ટણીના સાનિઘ્ય અને માર્ગદર્શન તેમનું ઘડતર બળ બની રહ્યા. રાજકોટની રાજકુમાર કોલેજમાં અભ્યાસ કર્યા પછી કૃષ્ણકુમારસિંહજીને ઇંગ્લેન્ડની વિખ્યાત પબ્લીક સ્કૂલ હેરોમાં મૂકવામાં આવ્યા. ત્યાં ત્રણ વર્ષ અભ્યાસ કરી ક્રિકેટ, ફૂટબોલ, નિશાનબાજી વગેરેનો શોખ કેળવ્યો. ઈ.સ. ૧૯૩૧માં કૃષ્ણકુમારસિંહજી પુખ્ત વયનાં થતાં રાજ્ય વહીવટની ઘૂરા સંભાળી લીધો. તે જ વરસે ગોંડલના યુવરાજ શ્રી ભોજરાજજીનાં સુપુત્રી વિજયાબા સાથે તેમનાં લગ્ન લેવાણાં. વિજયાબાનાં ધાર્મિક, પ્રેમાળ, સરળ અને ઉમદા સ્વભાવે પણ તેમનાં જીવનમાં પ્રભાવક રંગો પૂર્યા હતાં એમ ડૉ. ગંભીરસિંહજી ગોહિલ નોંધે છે.
કૃષ્ણકુમારસિંહજી ઉચ્ચ વહીવટી કૂનેહ અને પ્રજા કલ્યાણની પ્રખર ભાવના ધરાવતા રાજવી હતા. પ્રજાવત્સલતાનો આદર્શ સેવનાર મહારાજા સમયાન્તરે ચાંચ બંદરના બંગલે કે ગોપનાથના બંગલે હવાફેર માટે જતાં અને ત્યાં થોડા દિવસ રહીને આરામ કરતા. એ વખતે આજુબાજુ પંથકના ગામડામાં આકસ્મિક મુલાકાતે પહોંચી જતા. એ વખતે ગોપનાથ ઢૂંકડા એક ગામે નવરાત્રી પ્રસંગે રમાતી ગરબી, પંથકના પચાસ ગાઉ માથે વખણાય. રાજમાંથી સંદેશો ગાયો કે બાપુ આઠમની રાતે તમારી ગરબી જોવા પધારે છે.
અઢારસો પાદરના ઘણી ગરબી જોવા પધારે છે એ જાણીને ગામ લોકોનો આનંદ હિલોળે ચડ્યો. ગરબી ગાનારા ને રમનારાઓના કેડિયાની કસો તૂટવા માંડી. એમના અંતરના આનંદમોરલા ટહૂકી ઊઠ્યા. ગામના ચોરાની સફાઈ થઈ ગઈ. ઢોલિયા ઢળાઈ ગયા. આણંત વહુઓએ લાવેલી નવીનકોર રજાઈયું પથરાઈ ગઈ. ગાદી તકિયા નંખાઈ ગયા. કુંભારો આવીને ઠંડા પાણીના ચીતરેલાં માટીના ગોળા ભરીને મૂકી ગયા. ભાવેણાના ભૂપ ગરબી જોવા પધારે છે એ વાત જાણીને અડખે પડખેના પાંચ પચ્ચીસ ગાઉ માથે આવેલા ગામના લોકો ગાડાં, ઘોડા અને ઊંટિયા માથે સવાર થઈને અહીં ઊમટી પડ્યા. અવનિ માથે અંધારાના ઓળા ઊતર્યા ન ઊતર્યા ત્યાં કૃષ્ણકુમારસિંહજી પધાર્યા. કટ કટ કટ પગથિયાં ચડીને ચોરે આવ્યા. પ્રજાજનોના વંદન ઝીલીને ઢોલિયા માથે બિરાજમાન થયા. અને તકિયાને અઢેલીને બેઠા. સૌની ખબર અંતર પૂછતા પડખે બેઠેલા મુખીને પૂછ્‌યું  ‘પટેલ, શું ચાલે છે? માતાજીની ગરબી રમવા માટે તમારું ગામ બહુ જાણીતું છે એમ સાંભળ્યું છે.’
ગામના નવરાત્રી ઉત્સવની પ્રશંસા સાંભળીને ગામેતીઓના અંતરમાં આનંદના રંગસાથિયા પુરાણા, એક બે ઉત્સાહી આગેવાનો એકસાથે બોલી ઊઠ્યા ‘જી મહારાજ! આ ગામમાં ગરબી રમવાની પરંપરા પાંચ પાંચ પેઢીથી હાલતી આવે છે. અમારી ગરબીની તો વાત નો થાય. ભારે રંગત જામી જાય. ઇમાંય જો માવઠાનો વરહાદ વરહી ગ્યો હોય ને પછી જુવાનિયા ગરબી રમઝટ બોલાવે ઈ બીજી ભાતની હોય. ગરબી પુરી થાય ત્યાં તો ધરતી પર વેંત વેંત ઊંડું કુંડાળું કોરાઈ જાય હો.’
મહારાજ રાજી થતાં બોલ્યા ‘‘તમારા સંપીલા ગામમાં માતાજીની માંડવડી આગળ રૂડી ગરબી થતી હોય તો એમાં રમવાનો લ્હાવો આજ હુંય લઇશ.’’ આવી વિસ્મયભરી વાત સાંભળતાં જ ગામના આગેવાનોના મોં પરનો આનંદ ઉચાળા બાંધીને હાલતો થયો. સૌ સ્તબ્ધ બનીને એકબીજાની સામે તાકી રહ્યાં. મહારાજાની ગામ આખાના લોક સાથે ગરબી રમે ઇ વાત કોઈને ગળે ઊતરતી નહોતી. એક વયોવૃદ્ધ ભાભાથી નો રહેવાણું. એ ઊભા થયા ને બે હાથ જોડીને બોલ્યા ‘બાપુ! આ તો અમારી ગામડિયા લોકની ગરબી. આપના જેવા રાજરજવાડાથી અમારા ભેળા નો રમાય.’
‘શું હું શક્તિની ભક્તિ કરવાને લાયક નથી ગણાતો?’
‘અરેરે, બાપુ આ શું બોલ્યા? આવું બોલીએ તો મા ખોડિયાર અમારી જીભ જ ખેંહી લ્યે. ભાવેણાના માથે તો ખોડિયાર માના ચાર હાથ છે. માની અમીદ્રષ્ટિ છે.’ વૃદ્ધ ભાભા બોલી ઊઠ્યા.
‘તો વડીલ તમે આવું કેમ બોલ્યા?’
‘બાપુ! વાત જાણે એમ છે કે અમારી ગામડિયાઓની ગરબી સરખેસરખા સમોવડિયાને રમવા માટેની હોય છે. ગરબી રમનારે સામે આવનારને ગોઠણ સુધી નમી તાળી દઈ આગળ જવાનું. એક બીજાને પગે લાગવાનું. વરહને વચલે દા’ડે કંઈ મનદુઃખ થયાં હોય ઇ હંઘુય ભૂલીને આનંદ માણવાની ગરબી છે. એટલે અમે ગરબીમાં ગામના વાળંદ, ઘાટઘડા કુંભાર, મેરાઈ, મોચી જેવા વસવાયાને ભેળાં રમવા દેતા નથી. કાઠી, દરબારો અને રજપૂતોની વસતીનું ગામ છે. આ લોકો સ્વપ્નામાંય કોઈની સામે ઝૂકવાનું પસંદ કરતાં નથી. આપનાથી ગામલોકો આગળ ઝૂકીને રમવાની ગરબી ન ગવાય.’ એક ગામડિયાએ પેટછૂટી વાત કરીને રહસ્ય ઉઘાડું કરી નાખ્યું.
‘ભાઈ, આ તો હડહડતો અન્યાય કહેવાય, માતાજીની ભક્તિ કરતી વખતે અહંને ઓગાળી નાખવો જોવી. માને તો બધાં જ બાળકો સરખાં ગણાય. માડીના દરબારમાં ઊંચનીચના ભેદભાવ ન રખાય. સૌ સરખાં ગણાય.’ આટલું બોલતા મહારાજાના મુખ પર જાણે કે વેદના લીંપાઈ ગઈ. તેઓ ગંભીર અવાજે બોલ્યા ઃ
‘આજે મારે ગામેળું જોડે ગરબી ગાઈને ભેદની ભીંતડિયું ભાંગી નાખવી છે.’
ગામનું વસવાયું વરણ મહારાજાની મહાનતા જોઈ સ્તબ્ધ થઈ ગયું. શું ભાવેણાનો નાથ પોતે ઊઠીને આપણી સાથે ગરબી રમીને ધૂંટણ સુધી નમીને ગરબીમાં તાળી આપશે? ધન્ય છે આવા સમદ્રષ્ટિવાળા રાજવીને. વાયે અડીને વાત ગામઆખામાં વહેતી થઈ ગઈ.
સવર્ણો વસવાયાઓ જોડે ગરબી રમવાની ગડમથલ કરતા હતા ત્યારે કૃષ્ણકુમારસંિહજીએ એટલું જ કહ્યું ઃ ‘ભાઈઓ, હું અઢારસો પાદરનો ઘણી ઊઠીને મારી રૈયત જોડે રૈયત જોડે તરોવરો કરું કે ઊંચનીચના ભેદભાવ રાખું તો એ બધા ક્યારે ઉંચા આવશે? રૈયત તો મારા રાજની શોભા છે. એ સૌને ભેળા લઈને હું ગરબીમાં જોડાઈશ. કેડ્યેથી લળક લઈને પગ સુધી નમવામાં ભલે મને નાનપ લાગે.’
પછી તો ભાઈ ગરબીનો રંગ જામી ગયો. ગામ લોકોની સાથે વસવાયા વર્ગ હોંશભેર જોડાયો. કોઈ દિ’ ગરબીય નહીં રમનારા કે જોનારા ય રંગેચંગે ગરબી રમવા ઊતરી પડ્યા. ભાવનગરના રાજા સાથે ગરબી રમવાનો લ્હાવો કોણ જતો કરે? ઘૈડિયા વાતું કરે છે કે તે દિ’ બાપુ એક એક ગ્રામજનના ગોઠણ સુધી નહીં પગના પંજા સુધી નીચા નમીને બબ્બે કલાક ગરબીમાં ફર્યા. ગામલોકો રાજવી સાથે ગરબી રમીને ધન્યતા અનુભવવા લાગ્યા. ગરબી પુરી થતાં પોતાને સવર્ણોમાં ધન્યતા અનુભવવા લાગ્યા. ગરબી પુરી થતાં પોતાને સવર્ણોમાં ખપાવતા સૌ કોઈએ મહારાજાની માફી માગી. વર્ણભેદ નહીં રાખવા બધા વચનબદ્ધ થયા, ત્યારે શ્રી કૃષ્ણકુમારસિંહજીના મુખ પર આનંદની અનેરી આભાવાળું સ્મિત રમતું હતું. અસ્પૃશ્યતાના નિવારણના ઢોલ તો આપણે આજે વગાડીએ છીએ પણ પ્રજાકલ્યાણની ભાવનાવાળા ભૂપ એ કાર્ય તો વર્ષો પહેલા કરી ચૂક્યા હતા.
મહારાજાના શિક્ષણપ્રેમની એક ઘટના ‘સંકલ્પ શક્તિ’એ આ મુજબ નોંધી છે. નગર વિકાસના કામો નિહાળવા અને નગરચર્યા કરવા નીકળેલા મહારાજા સંઘ્યાટાણે અગંત માણસો સાથે ચર્ચા કરતાં જઈ રહ્યા હતા. એવામાં એમની નજર એક ઘૂની માણસ માથે પડી. એમને આશ્ચર્ય એટલા માટે થયું કે ઘૂની જેવો જણાતો ખાદીધારી માણસ મેલાંઘેલાં નાનાંનાનાં ટાબરિયાંઓને પ્રેમપૂર્વક નવડાવી, માથામાં તેલ નાખી વાળ ઓળી દેતો હતો. એને જોતાં જ મહારાજા થભી ગયા. એમના મનમાં વીજળીના સળાવાની જેમ એક વિચાર ઝબકી ગયો. બાપુએ એમના ઢૂંકડા જઈને રાજ્યમાં સારી શિક્ષણ સંસ્થા ઊભી કરવા આર્થિક સહાય આપવાની તત્પરતા બતાવી, ત્યારે સેવાભાવી ખાદીધારી શું કહે છે? ‘મને કોઈ શિક્ષણ સંસ્થા ઊભી કરી મોટું પદ લેવામાં રસ નથી. મને રાજ્યના પૈસાય જોતાં નથી. આપ આપવા ઇચ્છતા જ હો તો સામેની ખરાબાની જમીન મને આપો. મારે ગામના ગરીબ બાળકોને માટે એમાં હીંચકા બાંધવા છે, અને છોકરાંઓને ભેગાં કરી ધમપછાડા કરાવવા છે.’
મહારાજા આ માણસના હીરને પારખી શક્યા અને પછી બીજે દિવસે તાંબાના પતરે પડતર જમીન મહારાજા સાહેબે ‘યાવત્‌ચંદ્ર દીવા કરો’ લખી આપી. એ પડતર જમીન ઉપર પાંગરેલી પ્રતિષ્ઠ સંસ્થા એટલે શિશુવિહાર-ભાવનગર. એ મહારાજાનું નામ કૃષ્ણકુમારસિંહજી. એ ભેખધારી માણસ એટલે માન. શ્રી માનભાઈ ભટ્ટ. બેમાંથી એકેય હયાત નથી. હયાત છે પ્રજાના હૃદયમાં એમની સ્મૃતિ

ગુજરાત સમાચાર (http://www.gujaratsamachar.com/20111030/purti/ravipurti/lokjivan.html)

Tagged with: , , , , , , , , ,
Posted in ગુજરાતી, Heroes, India, traditions

जन गण मन की कहानी

सन 1911 तक भारत की राजधानी बंगाल हुआ करता था। सन 1905 में जब बंगाल विभाजन को लेकर अंग्रेजो के खिलाफ बंग-भंग आन्दोलन के विरोध में बंगाल के लोग उठ खड़े हुए तो अंग्रेजो ने अपने आपको बचाने के लिए के कलकत्ता से हटाकर राजधानी को दिल्ली ले गए और 1911 में दिल्ली को राजधानी घोषित कर दिया। पूरे भारत में उस समय लोग विद्रोह से भरे हुए थे तो अंग्रेजो ने अपने इंग्लॅण्ड के राजा को भारत आमंत्रित किया ताकि लोग शांत हो जाये। इंग्लैंड का राजा जोर्ज पंचम 1911 में भारत में आया। रविंद्रनाथ टैगोर पर दबाव बनाया गया कि तुम्हे एक गीत जोर्ज पंचम के स्वागत में लिखना ही होगा।

उस समय टैगोर का परिवार अंग्रेजों के काफी नजदीक हुआ करता था, उनके परिवार के बहुत से लोग ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए काम किया करते थे, उनके बड़े भाई अवनींद्र नाथ टैगोर बहुत दिनों तक ईस्ट इंडिया कंपनी के कलकत्ता डिविजन के निदेशक (Director) रहे। उनके परिवार का बहुत पैसा ईस्ट इंडिया कंपनी में लगा हुआ था। और खुद रविन्द्र नाथ टैगोर की बहुत सहानुभूति थी अंग्रेजों के लिए। रविंद्रनाथ टैगोर ने मन से या बेमन से जो गीत लिखा उसके बोल है “जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता”। इस गीत के सारे के सारे शब्दों में अंग्रेजी राजा जोर्ज पंचम का गुणगान है, जिसका अर्थ समझने पर पता लगेगा कि ये तो हकीक़त में ही अंग्रेजो की खुशामद में लिखा गया था।

इस राष्ट्रगान का अर्थ कुछ इस तरह से होता है “भारत के नागरिक, भारत की जनता अपने मन से आपको भारत का भाग्य विधाता समझती है और मानती है। हे अधिनायक (Superhero) तुम्ही भारत के भाग्य विधाता हो। तुम्हारी जय हो ! जय हो ! जय हो ! तुम्हारे भारत आने से सभी प्रान्त पंजाब, सिंध, गुजरात, मराठा मतलब महारास्त्र, द्रविड़ मतलब दक्षिण भारत, उत्कल मतलब उड़ीसा, बंगाल आदि और जितनी भी नदिया जैसे यमुना और गंगा ये सभी हर्षित है, खुश है, प्रसन्न है , तुम्हारा नाम लेकर ही हम जागते है और तुम्हारे नाम का आशीर्वाद चाहते है। तुम्हारी ही हम गाथा गाते है। हे भारत के भाग्य विधाता (सुपर हीरो ) तुम्हारी जय हो जय हो जय हो। “

जोर्ज पंचम भारत आया 1911 में और उसके स्वागत में ये गीत गाया गया। जब वो इंग्लैंड चला गया तो उसने उस जन गण मन का अंग्रेजी में अनुवाद करवाया। क्योंकि जब भारत में उसका इस गीत से स्वागत हुआ था तब उसके समझ में नहीं आया था कि ये गीत क्यों गाया गया और इसका अर्थ क्या है। जब अंग्रेजी अनुवाद उसने सुना तो वह बोला कि इतना सम्मान और इतनी खुशामद तो मेरी आज तक इंग्लॅण्ड में भी किसी ने नहीं की। वह बहुत खुश हुआ। उसने आदेश दिया कि जिसने भी ये गीत उसके (जोर्ज पंचम के) लिए लिखा है उसे इंग्लैंड बुलाया जाये। रविन्द्र नाथ टैगोर इंग्लैंड गए। जोर्ज पंचम उस समय नोबल पुरस्कार समिति का अध्यक्ष भी था।

उसने रविन्द्र नाथ टैगोर को नोबल पुरस्कार से सम्मानित करने का फैसला किया। तो रविन्द्र नाथ टैगोर ने इस नोबल पुरस्कार को लेने से मना कर दिया। क्यों कि गाँधी जी ने बहुत बुरी तरह से रविन्द्रनाथ टेगोर को उनके इस गीत के लिए खूब डांटा था। टैगोर ने कहा की आप मुझे नोबल पुरस्कार देना ही चाहते हैं तो मैंने एक गीतांजलि नामक रचना लिखी है उस पर मुझे दे दो लेकिन इस गीत के नाम पर मत दो और यही प्रचारित किया जाये क़ि मुझे जो नोबेल पुरस्कार दिया गया है वो गीतांजलि नामक रचना के ऊपर दिया गया है। जोर्ज पंचम मान गया और रविन्द्र नाथ टैगोर को सन 1913 में गीतांजलि नामक रचना के ऊपर नोबल पुरस्कार दिया गया।

रविन्द्र नाथ टैगोर की ये सहानुभूति ख़त्म हुई 1919 में जब जलिया वाला कांड हुआ और गाँधी जी ने लगभग गाली की भाषा में उनको पत्र लिखा और कहा क़ि अभी भी तुम्हारी आँखों से अंग्रेजियत का पर्दा नहीं उतरेगा तो कब उतरेगा, तुम अंग्रेजों के इतने चाटुकार कैसे हो गए, तुम इनके इतने समर्थक कैसे हो गए ? फिर गाँधी जी स्वयं रविन्द्र नाथ टैगोर से मिलने गए और बहुत जोर से डाटा कि अभी तक तुम अंग्रेजो की अंध भक्ति में डूबे हुए हो ? तब जाकर रविंद्रनाथ टैगोर की नीद खुली। इस काण्ड का टैगोर ने विरोध किया और नोबल पुरस्कार अंग्रेजी हुकूमत को लौटा दिया। सन 1919 से पहले जितना कुछ भी रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा वो अंग्रेजी सरकार के पक्ष में था और 1919 के बाद उनके लेख कुछ कुछ अंग्रेजो के खिलाफ होने लगे थे।

रविन्द्र नाथ टेगोर के बहनोई, सुरेन्द्र नाथ बनर्जी लन्दन में रहते थे और ICS ऑफिसर थे। अपने बहनोई को उन्होंने एक पत्र लिखा था (ये 1919 के बाद की घटना है) । इसमें उन्होंने लिखा है कि ये गीत ‘जन गण मन’ अंग्रेजो के द्वारा मुझ पर दबाव डलवाकर लिखवाया गया है। इसके शब्दों का अर्थ अच्छा नहीं है। इस गीत को नहीं गाया जाये तो अच्छा है। लेकिन अंत में उन्होंने लिख दिया कि इस चिठ्ठी को किसी को नहीं दिखाए क्योंकि मैं इसे सिर्फ आप तक सीमित रखना चाहता हूँ लेकिन जब कभी मेरी म्रत्यु हो जाये तो सबको बता दे। 7 अगस्त 1941 को रबिन्द्र नाथ टैगोर की मृत्यु के बाद इस पत्र को सुरेन्द्र नाथ बनर्जी ने ये पत्र सार्वजनिक किया, और सारे देश को ये कहा क़ि ये जन गन मन गीत न गाया जाये।

1941 तक कांग्रेस पार्टी थोड़ी उभर चुकी थी। लेकिन वह दो खेमो में बट गई। जिसमे एक खेमे के समर्थक बाल गंगाधर तिलक थे और दुसरे खेमे में मोती लाल नेहरु थे। मतभेद था सरकार बनाने को लेकर। मोती लाल नेहरु चाहते थे कि स्वतंत्र भारत की सरकार अंग्रेजो के साथ कोई संयोजक सरकार (Coalition Government) बने। जबकि गंगाधर तिलक कहते थे कि अंग्रेजो के साथ मिलकर सरकार बनाना तो भारत के लोगों को धोखा देना है। इस मतभेद के कारण लोकमान्य तिलक कांग्रेस से निकल गए और उन्होंने गरम दल बनाया। कोंग्रेस के दो हिस्से हो गए। एक नरम दल और एक गरम दल।

गरम दल के नेता थे लोकमान्य तिलक जैसे क्रन्तिकारी। वे हर जगह वन्दे मातरम गाया करते थे। और नरम दल के नेता थे मोती लाल नेहरु (यहाँ मैं स्पष्ट कर दूँ कि गांधीजी उस समय तक कांग्रेस की आजीवन सदस्यता से इस्तीफा दे चुके थे, वो किसी तरफ नहीं थे, लेकिन गाँधी जी दोनों पक्ष के लिए आदरणीय थे क्योंकि गाँधी जी देश के लोगों के आदरणीय थे)। लेकिन नरम दल वाले ज्यादातर अंग्रेजो के साथ रहते थे। उनके साथ रहना, उनको सुनना, उनकी बैठकों में शामिल होना। हर समय अंग्रेजो से समझौते में रहते थे। वन्देमातरम से अंग्रेजो को बहुत चिढ होती थी। नरम दल वाले गरम दल को चिढाने के लिए 1911 में लिखा गया गीत “जन गण मन” गाया करते थे और गरम दल वाले “वन्दे मातरम”।

नरम दल वाले अंग्रेजों के समर्थक थे और अंग्रेजों को ये गीत पसंद नहीं था तो अंग्रेजों के कहने पर नरम दल वालों ने उस समय एक हवा उड़ा दी कि मुसलमानों को वन्दे मातरम नहीं गाना चाहिए क्यों कि इसमें बुतपरस्ती (मूर्ति पूजा) है। और आप जानते है कि मुसलमान मूर्ति पूजा के कट्टर विरोधी है। उस समय मुस्लिम लीग भी बन गई थी जिसके प्रमुख मोहम्मद अली जिन्ना थे। उन्होंने भी इसका विरोध करना शुरू कर दिया क्योंकि जिन्ना भी देखने भर को (उस समय तक) भारतीय थे मन,कर्म और वचन से अंग्रेज ही थे उन्होंने भी अंग्रेजों के इशारे पर ये कहना शुरू किया और मुसलमानों को वन्दे मातरम गाने से मना कर दिया। जब भारत सन 1947 में स्वतंत्र हो गया तो जवाहर लाल नेहरु ने इसमें राजनीति कर डाली। संविधान सभा की बहस चली। संविधान सभा के 319 में से 318 सांसद ऐसे थे जिन्होंने बंकिम बाबु द्वारा लिखित वन्देमातरम को राष्ट्र गान स्वीकार करने पर सहमति जताई।

बस एक सांसद ने इस प्रस्ताव को नहीं माना। और उस एक सांसद का नाम था पंडित जवाहर लाल नेहरु। उनका तर्क था कि वन्दे मातरम गीत से मुसलमानों के दिल को चोट पहुचती है इसलिए इसे नहीं गाना चाहिए (दरअसल इस गीत से मुसलमानों को नहीं अंग्रेजों के दिल को चोट पहुंचती थी)। अब इस झगडे का फैसला कौन करे, तो वे पहुचे गाँधी जी के पास। गाँधी जी ने कहा कि जन गन मन के पक्ष में तो मैं भी नहीं हूँ और तुम (नेहरु ) वन्देमातरम के पक्ष में नहीं हो तो कोई तीसरा गीत तैयार किया जाये। तो महात्मा गाँधी ने तीसरा विकल्प झंडा गान के रूप में दिया “विजयी विश्व तिरंगा प्यारा झंडा ऊँचा रहे हमारा”। लेकिन नेहरु जी उस पर भी तैयार नहीं हुए।

नेहरु जी का तर्क था कि झंडा गान ओर्केस्ट्रा पर नहीं बज सकता और जन गन मन ओर्केस्ट्रा पर बज सकता है। उस समय बात नहीं बनी तो नेहरु जी ने इस मुद्दे को गाँधी जी की मृत्यु तक टाले रखा और उनकी मृत्यु के बाद नेहरु जी ने जन गण मन को राष्ट्र गान घोषित कर दिया और जबरदस्ती भारतीयों पर इसे थोप दिया गया जबकि इसके जो बोल है उनका अर्थ कुछ और ही कहानी प्रस्तुत करते है, और दूसरा पक्ष नाराज न हो इसलिए वन्दे मातरम को राष्ट्रगीत बना दिया गया लेकिन कभी गया नहीं गया। नेहरु जी कोई ऐसा काम नहीं करना चाहते थे जिससे कि अंग्रेजों के दिल को चोट पहुंचे, मुसलमानों के वो इतने हिमायती कैसे हो सकते थे जिस आदमी ने पाकिस्तान बनवा दिया जब कि इस देश के मुसलमान पाकिस्तान नहीं चाहते थे, जन गण मन को इस लिए तरजीह दी गयी क्योंकि वो अंग्रेजों की भक्ति में गाया गया गीत था और वन्देमातरम इसलिए पीछे रह गया क्योंकि इस गीत से अंगेजों को दर्द होता था।

बीबीसी ने एक सर्वे किया था। उसने पूरे संसार में जितने भी भारत के लोग रहते थे, उनसे पुछा कि आपको दोनों में से कौन सा गीत ज्यादा पसंद है तो 99 % लोगों ने कहा वन्देमातरम। बीबीसी के इस सर्वे से एक बात और साफ़ हुई कि दुनिया के सबसे लोकप्रिय गीतों में दुसरे नंबर पर वन्देमातरम है। कई देश है जिनके लोगों को इसके बोल समझ में नहीं आते है लेकिन वो कहते है कि इसमें जो लय है उससे एक जज्बा पैदा होता है।

तो ये इतिहास है वन्दे मातरम का और जन गण मन का। अब ये आप को तय करना है कि आपको क्या गाना है ?

इतने लम्बे पत्र को आपने धैर्यपूर्वक पढ़ा इसके लिए आपका धन्यवाद्। और अच्छा लगा हो तो इसे फॉरवर्ड कीजिये, आप अगर और भारतीय भाषाएँ जानते हों तो इसे उस भाषा में अनुवादित कीजिये अंग्रेजी छोड़ कर।

जय हिंद |

Tagged with: , , , , ,
Posted in क्रन्तिकारी, India, Politics

Truth of Sonia Gandhi

सोनिया गांधी की यात्रा का खर्च 1850 करोड़

इतना खर्चा तो प्रधानमंत्री का भी नहीं है :  पिछले तीन साल में सोनिया की सरकारी ऐश का सुबूत, सोनिया गाँधी के उपर सरकार ने पिछले तीन साल में जीतनी रकम उनकी निजी बिदेश यात्राओ पर की है उतना खर्च तो प्रधानमंत्री ने भी नहीं किया है ..एक सुचना के अनुसार पिछले तीन साल में सरकार ने करीब एक हज़ार आठ सौ अस्सी करोड रूपये सोनिया के विदेश दौरे के उपर खर्च किये है ..कैग ने इस पर आपति भी जताई तो दो अधिकारियो का तबादला कर दिया गया .
अब इस पर एक पत्रकार रमेश वर्मा ने सरकार से आर टी आई के तहत निम्न जानकारी मांगी है :

  1. सोनिया के उपर पिछले तीन साल में कुल कितने रूपये सरकार ने उनकी विदेश यात्रा के लिए खर्च की है ?
  2. क्या ये यात्राये सरकारी थी ?
  3. अगर सरकारी थी तो फिर उन यात्राओ से इस देश को क्या फायदा हुआ ?
  4. भारत के संबिधान में सोनिया की हैसियत एक सांसद की है तो फिर उनको प्रोटोकॉल में एक राष्ट्रअध्यछ का दर्जा कैसे मिला है ?
  5. सोनिया गाँधी आठ बार अपनी बीमार माँ को देखने न्यूयॉर्क के एक अस्पताल में गयी जो की उनकी एक निजी यात्रा थी फिर हर बार हिल्टन होटल में चार महगे सुइट भारतीय दूतावास ने क्यों सरकारी पैसे से बुक करवाए ?
  6. इस देश के प्रोटोकॉल के अनुसार सिर्फ प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ही विशेष विमान से अपने लाव लश्कर के साथ विदेश यात्रा कर सकते है तो फिर एक सांसद को विशेष सरकारी विमान लेकर विदेश यात्रा की अनुमति क्यों दी गयी ?
  7. सोनिया गाँधी ने पिछले तीन साल में कितनी बार इटली और वेटिकेन की यात्राये की है ?

मित्रों कई बार कोशिश करने के बावजूद भी जब सरकार की ओर से कोई जबाब नहीं मिला तो थक हारकर केंद्रीय सुचना आयोग में अपील करनी पड़ी.
केन्द्रीय सूचना आयोग प्रधानमंत्री और उनके कार्यालय के गलत रवैये से हैरान हो गया .और उसने प्रधानमंत्री के उपर बहुत ही सख्त टिप्पडी की

  1. केन्द्रीय सूचना आयोग ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के विदेशी दौरों पर उस पर खर्च हुए पैसे को सार्वजनिक करने को कहा है। सीआईसी ने प्रधानमंत्री कार्यालय को इसके निर्देश भी दिए हैं। हिसार के एक आरटीआई कार्यकर्ता रमेश वर्मा ने प्रधानमंत्री कार्यालय से सोनिया गांधी के विदेशी दौरों, उन पर खर्च, विदेशी दौरों के मकसद और दौरों से हुए फायदे के बारे में जानकारी मांगी है।
  2. 26 फरवरी 2010 को प्रधानमंत्री कार्यालय को वर्मा की याचिका मिली, जिसे पीएमओ ने 16 मार्च 2010 को विदेश मंत्रालय को भेज दिया। 26 मार्च 2010 को विदेश मंत्रालय ने याचिका को संसदीय कार्य मंत्रालय के पास भेज दिया। प्रधानमंत्री कार्यालय के इस ढ़ीले रवैए पर नाराजगी जताते हुए मुख्य सूचना आयुक्त सत्येन्द्र मिश्रा ने निर्देश दिया कि भविष्य में याचिका की संबंधित मंत्रालय ही भेजा जाए। वर्मा ने पीएमओ के सीपीआईओ को याचिका दी थी। सीपीआईओ को यह याचिका संबंधित मंत्रालय को भेजनी चाहिए थी।

आखिर सोनिया की विदेश यात्राओ में वो कौन सा राज छुपा है जो इस देश के ” संत ” प्रधानमंत्री इस देश की जनता को बताना नहीं चाहते ? !

जब भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहे स्वामी रामदेव जी पर बरस रहे थे डंडे
तब सोनिया अपने रिश्तेदारों और बेबी के साथ स्विट्जरलेंड और इटली गई थी …….  क्यों ?

  1. सोनिया गांधी
  2. राउल गांधी (रौल विंची)
  3. सुमन दुबे (राजीव गांधी फाउंडेशन, राजीव गांधी की दाहिना हाथ)
  4. रॉबर्ट वाढ़्रा (सोनिया का घपलेबाज दामाद)
  5. विन्सेंट जॉर्ज (सोनिया का निजी सचिव –  Personal secretary)
  6. और 12 अन्य लोग जिनहोने अपने आपको व्यापारिक सलाहकार बताया  (12 other people who wrote their profession as financial consultant)
  7. सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी अपने लाव लश्कर के साथ 8 जून से 15 जून तक स्विट्जरलैंड में थे .. फिर 19 जून को स्विस सरकार का बयान आता है की अब भारत को हम सारे खातेदारों की सूची और रकम का ब्यौरा देने को तैयार है
    क्या सोनिया की स्विस यात्रा और उसके दिन के बाद स्विस सरकार की इस घोषणा में कोई राज है ??
    इसके पहले स्विस सरकार ने क्यों इंकार किया ? ? ? ? ? ? जवाब ढूँढने के लिए मोमबत्ती जलाने की जरूरत नहीं है  

सोनिया गांधी का 84 हजार करोड़ काला धन स्विस बैंक में

एक स्विस पत्रिका की एक पुरानी रिपोर्ट (http://www.schweizer-illustrierte.ch/zeitschrift/500-millionen-der-schweiz-imeldas-faule-tricks#) को आधार माने तो यूपीए अध्‍यक्ष सोनिया गांधी के अरबों रुपये स्विस बैंक के खाते में जमा है. इस खाते को राजीव गांधी ने खुलवाया था. इस पत्रिका ने तीसरी दुनिया के चौदह ऐसे नेताओं के बारे में जानकारी दी थी, जिनके खाते स्विस बैंकों में थे और उनमें करोड़ों का काला धन जमा था.
रुसी खुफिया एजेंसी ने भी अपने दस्‍तावेजों में लिखा है कि रुस के साथ हुए सौदा में राजीव गांधी को अच्‍छी खासी रकम मिली थी, जिसे उन्‍होंने स्विस बैंके अपने खातों में जमा करा दिया था. पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री एवं वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता राम जेठमलानी भी सोनिया गांधी और उनके परिवार के पास अरबों का काला धन होने का आरोप लगा चुके हैं.
तो क्‍या केंद्र सरकार इसलिए भ्रष्‍टाचार और काले धन के मुद्दे को इसलिए गंभीरता से नहीं ले रही है कि सोनिया गांधी का काला धन स्विस बैंक जमा है? क्‍या केंद्र सरकार अन्‍ना हजार और रामदेव के साथ यह रवैया यूपीए अध्‍यक्ष के इशारे पर अपनाया गया था? क्‍या केन्‍द्र सरकार देश को लूटने वालों के नाम इसलिए ही सार्वजनिक नहीं करना चाहती है? क्‍या इसलिए काले धन को देश की सम्‍पत्ति घोषित करने की बजाय सरकार इस पर टैक्‍स वसूलकर इसे जमा करने वालों के पास ही रहने देने की योजना बना रही है? ऐसे कई सवाल हैं जो इन दिनों लोगों के जेहन में उठ रहे हैं.

काला धन देश में वापस लाने के मुद्दे पर बाबा रामदेव के आंदोलन से पहले सुप्रीम कोर्ट भी केंद्र सरकार की खिंचाई कर चुकी है. विदेशी बैंकों में काला धन जमा करने वाले भारतीयों के नाम सार्वजनिक किए जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बीते 19 जनवरी को सरकार की जमकर खिंचाई की थी. सुप्रीम कोर्ट ने यहां तक पूछ लिया था कि आखिर देश को लूटने वालों का नाम सरकार क्‍यों नहीं बताना चाहती है? इसके पहले 14 जनवरी को भी सुप्रीम कोर्ट ने इसी मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरा था. पर सरकार कोई तार्किक जवाब देने की बजाय टालमटोल वाला रवैया अपनाकर बच निकली.
केंद्र सरकार के इस ठुलमुल रवैये एवं काले धन संचयकों के नाम न बताने की अनिच्‍छा के पीछे गांधी परिवार का स्विस खाता हैं. इस खाता को राजीव गांधी ने खुलवाया था. इसमें इतनी रकम जमा है कि कई सालों तक मनरेगा का संचालन किया जा सकता है. यह बात कही थी एक स्विस पत्रिका ने. ‘Schweizer Illustrierte’ (http://www.schweizer-illustrierte.ch/ ) नामक इस पत्रिका ने अपने एक पुराने अंक में प्रकाशित एक खोजपरक रिपोर्ट में राजीव गांधी का नाम भी शामिल किया था. पत्रिका ने लिखा था कि तीसरी दुनिया के तेरह नेताओं के साथ राजीव गांधी का खाता भी स्विस बैंक में हैं. यह कोई मामूली पत्रिका नहीं है. बल्कि यह स्विट्जरलैंड की प्रतिष्ठित तथा मशहूर पत्रिका है. इस पत्रिका की 2 लाख 15 हजार से ज्‍यादा प्रतियां छपती हैं तथा इसके पाठकों की खंख्‍या 9 लाख 25 हजार के आसपास है. इसके पहले राजीव गांधी पर बोफोर्स में दलाली खाने का आरोप लग चुका है. डा. येवजेनिया एलबर्टस भी अपनी पुस्‍तक ‘The state within a state – The KGB hold on Russia in past and future’ में इस बात का खुलाया किया है कि राजीव गांधी और उनके परिवार को रुस के व्‍यवसायिक सौदों के बदले में लाभ मिले हैं. इस लाभ का एक बड़ा भाग स्विस बैंक में जमा किया गया है. रुस की जासूसी संस्‍था केजीबी के दस्‍तावेजों में भी राजीव गांधी के स्विस खाते होने की बात है. जिस वक्‍त केजीबी दस्‍तावेजों के अनुसार राजीव गांधी की विधवा सोनिया गांधी अपने अवयस्‍क लड़के (जिस वक्‍त खुलासा किया गया था, उस वक्‍त राहुल गांधी वयस्‍क नहीं थे) के बदले संचालित करती हैं. इस खाते में 2.5 बिलियन स्विस फ्रैंक है, जो करीब 2.2 बिलियन डॉलर के बराबर है. यह 2.2 बिलियन डॉलर का खाता तब भी सक्रिय था, जब राहुल गांधी जून 1998 में वयस्‍क हो गए थे. अगर इस धन का मूल्‍यांकन भारतीय रुपयों में किया जाए तो उसकी कीमत लगभग 10, 000 करोड़ रुपये होती है. इस रिपोर्ट को आए काफी समय हो चुका है, फिर भी गांधी परिवार ने कभी इस रिपोर्ट का औपचारिक रूप से खंडन नहीं किया और ना ही इसके खिलाफ विधिक कार्रवाई की बात कही. आपको जानकारी दे दें कि स्विस बैंक अपने यहां जमा धनराशि का निवेश करता है, जिससे जमाकर्ता की राशि बढ़ती रहती है. अगर केजीबी के दस्‍तावेजों के आधार पर गांधी परिवार के पास मौजूद धन को अमेरिकी शेयर बाजार में लगाया गया होगा तो यह रकम लगभग 12,71 बिलियन डॉलर यानी लगभग 48, 365 करोड़ रुपये हो चुका होगा. यदि इसे लंबी अवधि के शेयरों में निवेश किया गया होगा तो यह राशि लगभग 11. 21 बिलियन डॉलर होगी जो वर्तमान में लगभग 50, 355 करोड़ रुपये हो चुकी होगी. साल 2008 में आए वैश्विक आर्थिक मंदी के पहले यह राशि लगभग 18.66 बिलियन डॉलर यानी 83 हजार 700 करोड़ के आसपास हो चुकी होगी. वर्तमान स्थिति में गांधी परिवार के पास हर हाल में यह काला धन 45,000 करोड़ से लेकर 84, 000 करोड़ के बीच होगा. चर्चा है कि सकरार के पास ऐसे पचास लोगों की सूची आ चुकी है, जिनके पास टैक्‍स हैवेन देशों में बैंक एकाउंट हैं. पर सरकार ने अब तक मात्र 26 लोगों के नाम ही अदालत को सौंपे हैं. एक गैर सरकारी अनुमान के अनुसार 1948 से 2008 तक भारत अवैध वित्तीय प्रवाह (गैरकानूनी पूंजी पलायन) के चलते कुल 213 मिलियन डालर की राशि गंवा चुका है. भारत की वर्तमान कुल अवैध वित्तीय प्रवाह की वर्तमान कीमत कम से कम 462 बिलियन डालर के आसपास आंकी गई है, जो लगभग 20 लाख करोड़ के बराबर है, यानी भारत का इतना काला धन दूसरे देशों में जमा है.
यही कारण बताया जा रहा है कि सरकार सुप्रीम कोर्ट से बराबर लताड़ खाने के बाद भी देश को लूटने वाले का नाम उजागर नहीं कर रही है. कहा जा रहा है कि इसी कारण बाबा रामदेव का आंदोलन एक रात में खतम करवा दिया गया तथा इसके पहले उन्‍हें इस मुद्दे पर मनाने के लिए चार-चार मंत्री हवाई अड्डे पर अगवानी करने गए. सरकार इसके चलते ही इस मामले की जांच जेपीसी से नहीं करवानी चा‍हती. इसके चलते ही भ्रष्‍टाचार के मामले में आरोपी थॉमस को सीवीसी यानी मुख्‍य सतर्कता आयुक्‍त बनाया गया, ताकि मामले को सामने आने से रोका जा सके

कॉंग्रेस का बाबा के खिलाफ रणनीति, का खुलासा :

  1. बाबा रामदेव ने जबसे चार जून को आंदोलन का ऐलान किया था तब से ही सरकार ने अपनी घिनौनी रणनीति बनानी शुरु कर दी थी.रही बात माँगो की तो मांगे तो कांग्रेस कभी भी किसी भी हालत मे नही मान सकती थी. क्योकि…… क्या कोई चोर और उसके साथी कभी भी ये मान सकते है कि वो अपनी चोरी का खुलासा करे
  2. सुप्रीम कोर्ट कह कह के थक गया कि कालेधन जमा करने वालो की सूची जारी करे. इस भ्रष्ट सरकार ने आज तक सूची तक नही जारी की.
  3. काले धन को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करना और उसको वापस लाना तो बहुत दूर की बात है. क्योकि ये बात 100 % सही है की खुद इस गांधी फैमिली का अकूत धन स्विस बैँक मे जमा है. इस बारे मे सनसनी खेज खुलासे बाबा रामदेव की 27 फरवरी की रामलीला मैदान की विशाल रैली मे भी हुये थे.जिसमे विशाल जनसमूह उमड़ा था और इस बिके मीडिया ने उस रैली को प्रसारित नही किया था.
  4. जब आस्था चैनल ने उस रैली को दिखाया तो तुरंत इस सरकार ने आस्था चैनल पर इस रैली को दिखाने पर प्रतिबंध लगा दिया. उसके बाद से कांग्रेस का केवल एक ही उददेश्य था कि कुछ ऐसा किया जाये जिससे बाबा रामदेव पे लोगो का विश्वास उठ जाये.
  5. क्योकि कांग्रेस जानती थी की उसको किसी भी विपक्षी पार्टी से इतना खतरा नही है जितना बाबा रामदेव से है. क्यो कि उनके साथ विशाल जन समर्थन है.
  6. इसलिये कांग्रेस ने एक ऐसी घिनौनी साजिश रची . कि जिससे लोगो का विश्वास रामदेव से उठ जाये.

एक जून को जब चार मंत्री एयरपोर्ट पर बाबा को लेने गये तो आम जनता या मीडिया को तो छोड़ो .

स्वयं बाबा रामदेव भी नही समझ पायेकि ये उल्टी गंगा कैसे बही ?

जब कि कांग्रेस के इस पैतरे का केवल एक ही उद्देश्य थाकि किसी तरह बाबा को प्रभावित करके एक चिटठी लिखवा ली जाये. ताकि बाद मे ये साबित किया जा सकेकि अनशन फिक्स था और लोगो का विश्वास बाबा से उठ जायेलेकिन बाबा ने कोई पत्र नही लिखा.

कांग्रेस ने हार नही मानी दुबारा मीटिँग की फिर भी असफल रही. और फिर उसने तीसरी मीटीँग होटल मे की . वहाँ उन नेताओ के पास बाबा की गिरफ्तारी का आदेश भी था. और होटल के बाहर काफी फोर्स भी पहुच गयी थी. नेताओ ने बाबा पर बहुत दबाब बनाया. और ये कहा कि आप की सारी मांगे मान ली जायेँगी लेकिन आप एक पत्र लिखे कि आप अपना अनशन खत्म कर देँगे. आपको ये पत्र लिखना बहुत जरुरी है. क्यो कि ये पत्र प्रधानमंत्री को दिखाना है.और ये एक आवश्यक प्रक्रिया है. बिना पत्र लिखे वो बाबा को छोड़ ही नही रहे थे. इसीलिये उस मीटीँग मे 6 घंटे का समय लग गया. उस समय बाबा रामदेव ये समझ गये थे कि कुछ षडयंत्र बुना जा रहा है. तब उन्होने संयम से काम लेते हुये पत्र लिखवाने पर तो मान गये लेकिन खुद साइन नही किया बल्कि आचार्य बालक्रष्ण से करवाया. हालाकि कांग्रेस बाबा से खुद साइन करने का दबाब डालते रहे लेकिन बाबा ने समझदारी से काम लेते हुये खुद साइन नही किया. तब जाकर बाबा उस होटल से बाहर निकल पाये. उन्होने रामलीला मैदान पहुचते ही ये बता दिया कि उनके खिलाफ षडयंत्र रचा जा रहा है और वक्त आने पर खुलासा करेँगे.
1.     उसके बाद चार तारीख को नेताओ ने बाबा को फोन करके झूठ बोल दिया. कि आपकी अध्यादेश लाने की मांगे मान ली गयी है और आप अनशन खत्म करने की घोषणा कर दे.

2.     कांग्रेस इस बात का इंतजार कर रही थी कि एक बार बाबा अनशन खत्म की घोषणा कर दे तो उसके बाद वो पत्र मीडिया मे जारी कर दिया जाये जिससे ये साबित हो जाये की अनशन फिक्स था और लोगो की नजर मे बाबा नीचे गिर जाये.

3.     बाबा ने फिर घोषणा भी कर दी की सरकार ने हमारी माँगे मान ली है और वो जैसे ही हमे लिखित मे दे देगी .हम अनशन खत्म कर देँगे.

4.     सरकार फिर फस गयी क्यो कि उसने बाबा से झूठ बोला था कि वो अध्यादेश लाने की बात लिख कर देगी .जब कि वास्तव मे उसने कमेटी बनाने की बात लिखी थी. और बाबा जब तक अध्यादेश लाने की बात लिखित रुप से नही देखेँगे. तब तक वो आंदोलन नही खत्म करेँगे.

5.     तब कांग्रेस के चालाक और महा धूर्त वकील मंत्री सिब्बल ने तुरंत मीडिया को पत्र दिखाया और ये जताया कि ये अनशन पहले से फिक्स था. क्यो कि सिब्बल जानता था कि मीडिया बिना कुछ सोचे समझे बाबा की धज्जियाँ उड़ाने मे लग जायेगा.

6.     और यही हुआ भी .मीडिया ने बिना कुछ समझे भौकना शुरु कर दिया की बाबा ने धोखा किया लोगो की भावनाओ से खेला आदि.

7.     जब बाबा को पता चला कि सिब्बल ने एक कुटिल चाल खेली है । तब उन्होने बड़ी वीरता से उस धज्जियाँ उड़ाने को आतुर मीडिया को सारे सवालो के जबाब दिये और स्थिति को संभाल लिया.

कांग्रेस अपनी इतनी बड़ी चाल को फेल होते हुये देख बौखला गयी.

और उस मूर्ख कांग्रेस ने मैदान मे रावणलीला मचा कर अपनी कब्र खोदने की शुरुआत कर दी.

===============

1.     तीन जून की मीटिंग जहा प्रस्तावित थी, स्वामी रामदेव वहां न जाकर बाराखंबा रोड पर आर्यसमाज के ओर्फनेज में पहुंच गया और वहीं उन्होंने सुबोध कांत सहाय और सिब्बल को बुलाया। लेकिन सिब्बल ने स्वामी रामदेव को निर्धारित जगह पर आने की जिद की जहां रामदेव के लिये तैयारियां पूरीं थीं।

2.     अंत में दोनो पक्ष यह मीटिंग पब्लिक प्लेस पर खुली जगह क्लैरिज होटल में करने के लिये तैयार हो गये।

3.     कपिल सिब्बल ने उसी समय अपने नाम से व्यक्तिगत हैसियत से क्लैरिज होटल में एक सुइट बुक कराया। यह मीटिंग खुली जगह के बजाय सुइट में हुई। वहां वही हुआ जो ऊपर वाले अनामी ने लिखा है। क्लैरिज होटल में आनन फानन में कितनी पुलिस की गाडियां आई, यह वहां मौजूद सभी लोग जानते हैं।

4.     4 जून की दोपहर को एक रिपोर्ट दर्ज की गई कि स्वामी रामदेव व एक अन्य व्यक्ति की जान को खतरा है ।

5.     यह प्लान किया गया कि अनशन के लिये इकट्ठे हुये लोगों में आपस में हुई लड़ाई की बात बताकर रात को पुलिस को घुसाया जाय ।

6.     यही बताकर पुलिस वहां घुसी। मीडिया के कैमरे उस समय नहीं चल रहे थे। बाहर खड़ी मीडिया ने जब पुलिस के आला अधिकारी से पूछा तो उसने यही बताया था कि स्वामी रामदेव के साथ के लोगों में आपस में झड़प हुई है। पुलिस चुपचाप वहां निशब्द घुसी।

7.     सारे लोग सो रहे थे। रामदेव के पास सादी वर्दी में पुलिस पहले से ही मौजूद थी। योजना रामदेव को चुपचाप उठाकर आपस की लड़ाई में मार डाला दिखाने की थी। रामदेव की हत्या की सूचना होने की खबर वे पहले ही दे चुके थे। रामदेव की हत्या का आरोप RSS पर लगाने की पूरी योजना तैयार थी कि RSS ने भाजपा का वोट बैंक बिखर जाने के डर से और फायदा उठाने के लिये रामदेव की हत्या कर दी। इसके बाद क्या होना था वह सभी कल्पना कर सकते हैं ।

8.     लेकिन रामदेव को इस योजना की भनक लग चुकी थी। वह तब तक अपने आपको बचाता रहा जब तक कि मीडिया के कैमरे खुल नहीं गये। पुलिस ने मीडिया के कैमरे बंद कराने की कितनी कोशिश की वह आप उस समय की वीडियो देखकर जान सकते हैं। अपनी जान बचाने के लिये ही स्वामी रामदेव महिला के वेश में भागने पर मजबूर हुआ।

9.     राजनीति की गंदी साजिश भरे गटर में स्वामी रामदेव एक बहुत छोटा व्यक्तित्व थे। किस्मत अच्छी थी कि वह मसले जाने से बच गया।

10.   प्रतीक्षा कीजिये कि इस घिनौनी पटकथा के असफल अंत का खामियाजा कौन भुगतता है।

आखिर क्यूँ है ये स्वामी रामदेव के खिलाफ ? :

चार जून की रात दिल्ली के रामलीला मैदान में की गई पुलिस ज्यादतियों का विरोध करने वाले तमाम धर्माचार्य, योगाचार्य, संन्यासी और स्वयंसेवी संगठन अगर आने वाले समय में एक मंच पर एकत्र होकर अन्ना हजारे और बाबा रामदेव की मांगों का समर्थन करने का तय कर लें और गांव-गांव और शहरों में फैले अपने करोड़ों समर्थकों से सरकार का विरोध करने का आह्वान कर दें तो कैसी परिस्थितियां बनेंगी?

देश मे धर्मांतरण और बढ़ रहा है जोरों पर और संरक्षक है सोनिया माइनो  

  1. सोनिया जी ने विसेंट जार्ज को अपना निजी सचिव बनाया है जो ईसाई है ..विसेंट जार्ज के पास 1500 करोड़ कि संपत्ति है 2001 में सीबीआई ने उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति रखने का मामला दर्ज किया  उस वक्त सीबीआई ने विसेंट के 14 बैंक खातो को सील करते हुए कड़ी करवाई करने के संकेत दिए थे फिर सोनिया के इशारे पर मामले को दबा दिया गया .. हमने सीबीआई को विसेंट जार्ज के मामले में 4 मेल किया था जिसमे सिर्फ एक का जबाब आया कि जार्ज के पास अमेरिका और दुसरे देशो से ए पैसे के स्रोत का पता लगाने के लिए अनुरोध पत्र भेज दिया गया है .. वह रे सीबीआई १० साल तक सिर्फ अनुरोध पत्र टाइप करने में लगा दिए !!!
  2. सोनिया ने अहमद पटेल को अपना राजनैतिक सचिव बनाया है जो मुस्लमान है और कट्टर सोच वाले मुस्लमान है ..
  3. सोनिया ने मनमोहन सिंह कि मर्जी के खिलाफ पीजे थोमस को cvc बनाया जो ईसाई है ..और सिर्फ सोनिया की पसंद से cvc बने .जिसके लिए भारतीय इतिहास में पहली बार किसी प्रधानमंत्री को माफ़ी मागनी पड़ी ..
  4. सोनिया जी ने अपनी एकमात्र पुत्री प्रियंका गाँधी की शादी एक ईसाई राबर्ट बढेरा से की ..
  5. अजित जोगी को छातिसगड़ का मुख्यमंत्री सिर्फ उनके ईसाई होने के कारण बनाया गया जबकि उस वक़्त कई कांग्रेसी नेता दबी जबान से इसका विरोध कर रहे थे .. अजित जोगी इतने  काबिल मुख्यमंत्री साबित हुए की छातिसगड़ में कांग्रेस का नामोनिशान मिटा दिया ..
  6. अजित जोगी पर दिसम्बर 2003 से बिधायको को खरीदने का केस  सीबीआई ने केस दर्ज किया है  . सीबीआई ने पैसे के स्रोत को भी ढूड लिया तथा टेलीफोन पर अजित जोगी की आवाज की फोरेंसिक लैब ने प्रमडित किया इतने सुबूतो के बावजूद सीबीआई ने आजतक सोनिया के इशारे पर चार्जशीट फाइल नहीं किया ..
  7. जस्टिस ……. [मै नाम नहीं लिखूंगा क्योकि ये शायद न्यायपालिका का अपमान होगा ] को 3 जजों की बरिस्टता को दरकिनार करके सुप्रीम कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया जो की एक परिवर्तित ईसाई थे …
  8. राजशेखर रेड्डी को आँध्रप्रदेश का मुख्यमंत्री बनने में उनका ईसाई होना और आँध्रप्रदेश में ईसाइयत को फ़ैलाने में उनका योगदान ही काम आया मैडम सोनिया ने उनको भी तमाम नेताओ को दरकिनार करने मुख्यमंत्री बना दिया ..
  9. मधु कोड़ा भी निर्दल होते हुए अपने ईसाई होने के कारण कांग्रेस के समर्थन से झारखण्ड के मुख्यमंत्री  बने …
  10. अभी केरल विधान सभा के चुनाव में कांग्रेस ने 92 % टिकट ईसाई और मुस्लिमो को दिया है
  11. जिस कांग्रेस में सोनिया की मर्जी के बिना कोई पे …….ब तक नहीं कर सकता वही दिग्विजय सिंह किसके इशारे पर 10  सालो से हिन्दू बिरोधी बयानबाजी करते है ये हम सब अछि तरह जानते है …
  12. हिन्दुओ की आवाज़ बन रही बैबसाइटो को बलाकॅ कर दिया जाता है !
  13. यदि हमारा देश धर्मं निरपेच्छ है तो पोप जान पॉल के निधन पर तीन दिन का राष्ट्रीय शोक क्यों और किसके इशारे पर घोषित किया गया ?
    सिर्फ यह बताने और संदेश देने के लिए की भारत मे सब आपके (वेटिकन) इशारे पर ही हो रहा है जल्दी भारत ईसाई देश होगा
  14. आप सबको याद होगा श्रीमति प्रतिभा पाटिल जी राष्ट्रपति कैसे चुनी गईं लेकिन एंटोनियो [सोनिया गाँधी ] को उन पर भी भरोसा नहीं इसलिए उनका निजी सचिव भी ईसाई बनवाया। समझने वालों को संदेश बिल्कुल साफ है कि या तो ईसाई बनो या गुलाम नहीं तो कांग्रेस के कोर ग्रुप या सरकार के मालदार पदों को भूल जाओ ।
  15. हिमाचल कांग्रेस में ताकतवर हिन्दूनेता राजा वीरभद्र सिंह जी की जगह ईसाई विद्या सटोक्स को विपक्ष का नेता बनाया गया .. क्योंकि राजा वीरभद्र सिंह जी छल कपट व आर्थिक लालच से करवाए जा रहे धर्मांतरण के विरूद्ध थे । ऊपर से हिन्दुओं के वापिस अपने हिन्दू धर्म में लौटने के घर वापसी अभियान की सफलता से धर्मांतरण के दलाल देशी विदेशी ईसाई मिशनरी छटपटाए हुए थे।
  16. छतीसगढ और आंध्रप्रदेश में हिन्दुओं की संख्या 90% से अधिक होने के बावजूद एंटोनिया नेईसाई मुख्यमन्त्री बनवाए ।
  17. आंध्रप्रदेश में यह ईसाई मुख्यमन्त्री मुसलमानों को संविधान के विरूद्ध जाकर आरक्षण देता है ।
  18. प्रणवमुखर्जी को रक्षामन्त्री के पद से  हटवाकर ईसाई एन्टनी को रक्षामन्त्री बनवाया ।हमें मिले फेसबुक पर : https://www.ffacebook.com/shrreshthbhrath

जो मीडिया मे सच्चाई ढूंढते है वे यह पढे जो प्रश्न दिघ्भ्रमित और उसके मिडियाई दलालो ने पूछे है उनके उत्तर 

  1. जैसा की सभी को पता है की सरकार ने 1750 करोड़ की हड्डी मीडिया को डाली है सो मीडिया बाबा और के पीछे पड़ी है और असली भ्रष्टाचार का विषय भुलाने मे लगी है और हमेशा की तरह लोग मीडिया को सच भी मान रहे है

नग्नता परोसने वाले और बॉलीवुड के तलवे चाटने वाले नवभारत टाइम्स, देनिक भास्कर जैसे सांस्कृतिक भ्रष्ट अराष्ट्रवादी समाचार पत्र कभी संघ और विशुद्ध राष्ट्रवाद से प्रेरित लोगो के लेख नहीं छापते क्यूँ की उनके तार एनडीटीवी, अग्निवेश, अरुणा रॉय, शबाना, अख्तर, इलाइया  गेंग जैसे गद्दारो से है जुड़े
यहाँ देखें (http://alturl.com/qor9q)
ऐसा ही एक लेख एक हाल ही मे बिके हुए समाचार पत्र नवभारत ने लिखा था सो उसके लेख के जवाब मे एक पाठक ने उत्तर दिया है !

माननीय संपादक महोदय,नव भारत, नागपुर.
विषय : बाबा की साख पर बट्टा?

१४ जून को सामने के पृष्ठ पर बाबा की खिलाफ अनर्गल प्रचार रूपी लेख को पढकर अत्यंत दुख हुआ.
मै अपनी स्वयं की ओर से इस अनर्गल प्रचार का बिन्दुवार निवारण करना चाहता हूँ. आशा है आप इसे छापने का कष्ट करेंगे:

  1. डील की चिट्ठी: बाबा ने कईबार कहा है की वो चिट्ठी बालकृष्ण से कपिल सिब्बल ने जोर देकर लिखवाई थी कि प्रधान मंत्रीजी को दिखाना पड़ेगा, नहीं तो कोई बात नहीं बनेगी. बाबा का उद्येश्य तो यही था कि सरकार उनकी मांगो को मान जाये. उनके कहे अनुसार चिट्ठी न देकर बात को बिगाडना ही होता. बाबा को क्या पता था कि उनके साथ बिश्वासघात होगा.
  2. साध्वी ऋतंभरा और संघ शामिल है : एक अनाथालय चलाने वाली साध्वी या एक कर्मठ संघ का स्वामी रामदेव का साथ देना सौभाग्य की बात है  देश मे होने वाली अधिकतर प्राकृतिक आपदाओं मे सर्व प्रथम संघ के कार्यकर्ता आते है उसके बाद फौज या पुलिस आती है और यदि वे देश के लिए भ्रष्टाचार के विरुद्ध सक्रिय होते है तो क्या यह गुनाह है?. बाबा किसी से भेद भाव नहीं करते. जो भी भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ना चाहे सभी का स्वागत है. संसद पर हमला करनेवाले और फांसी सजायाफ्ता अफजल की आवभगत करनेवाले ओर दुर्दांत आतंकवादी सरगना ओसामा को आदरपूर्वक ”जी” कहनेवालो को देश पर साशन ओर भ्रष्टाचार करने का अधिकार ओर भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज़ उठानेवाले का बहिष्कार, कहाँ का न्याय है?संघ का स्वामीजी का साथ देना सौभाग्य की बात है दुर्भाग्य की नहीं दुर्भाग्य तो यह है की एक अग्निवेश जो आतंकियों को गले लगाता है और अण्णा के साथ मिलकर सरकार के बीच बिचौलिया और अजेंट का कार्य करता है यह सामाजिक कार्यकर्ता है सिर्फ जहां कॉंग्रेस की सरकार नहीं है वहीं इसे भ्रष्टाचार दिखाई देता है 
  3. नेतृत्व की कमी. अंटोनियों के हांथो ब्यर्थ प्राण गवाना क्या मूर्खता नहीं है ? क्या सुभास चंद्र बोस भारत से छुप कर ओर भेष बदल कर नहीं भागे थे? क्या राणा प्रताप भागकर जंगल में नहीं छुपे थे? भगवन कृष्ण भी रण छोड़ कर भागे थे ओर इसीलिए रणछोड कहलाये. क्या देश की रक्षा के लिए प्राणों की सुरक्षा आवश्यक नहीं है? हाँ, बाबा रामदेव का जिन्दा बच जाना भ्रस्टाचारीयो को रास नहीं आ रहा है क्यों की उनको शायद जान से मारने की मुराद पूरी नहीं हुई.
  4. महिला भेष में भागनाकोई भी भेष हो जिससे देश सेवा के लिए प्राणों की रक्षा हो सके किसी भी तर्क से अनुचित नहीं है. मुख्य मुद्दा है देश की रक्षा ओर प्राणों की सुरक्षा ओर इस उद्येष्य की पूर्ति के लिए सभी भेष तर्कसंगत है. सुभास चंद्र बोस भी कई भेष बदल बदल कर भारत से भागे थे. अर्जुन तो ६ माहतक स्त्री का रूप धारण किये रहे. भगवा कपडा त्याग का केवल द्य्योतक है. प्राणों की रक्षा के लिए कुछ समय के लिए उसका त्याग तर्क ओर न्याय संगत है. असली त्याग तो मन से होता है.
  5. सशत्र सेना का गठन: सरकार (कॉंग्रेस) की पुलिस का कार्य है जनता की रक्षा करना अगर वह ही भक्षक बन जाये तो क्या करेंगे जनता ? मार खाना है ? सिर्फ ?   बाबा ने साफ़ कर दिया है की इस दल का गठन किसी को मारने की लिए नहीं होगा वरंच स्वयं की रक्षा की लिए होगा ओर स्वयं की रक्षा कोई अपराध नहीं है. अपना ओर अपने लोगो की सुरक्षा ओर रक्षा सभी का नैतिक अधिकार है

एक ब्यक्ति जो अपना सब कुछ दांव पर लगा कर देश की सुरक्षा हेतु भ्रष्टाचार के विरुद्ध अभियान चला रहा हो उसके प्रति इस प्रकार की घिनौनी बाते करना निंदनीय है. सभी देश प्रेमियों को भ्रष्टाचार के विरुद्ध इस लड़ाई में उनका साथ देना चाहिए. दुनिया के सभी लोगो को ज्ञात है कि स्विस बैंक में सबसे ज्यादा गैर क़ानूनी पैसा भारत वासियों का ही है जो की देश को बेरहमी से लूट लूट कर वहां भरा गया है. क्या ऐसे भ्रस्ट लोगो के खिलाफ बोलना गुनाह है? (संदर्भ: यहाँ देखें  )

सोनिया गांधी का दामाद रॉबर्ट वढेरा  की देश के किसी भी विमान पट्टल पर तलाशी नहीं ली जाती है उसके साथ मे जाने
वाले चार आदमियो की भी नहीं, मतलब सोनिया ने बक्से भर भर के माल इटली मे भेजने की अनुमति उसे दे रक्खी है ? सवाल है हमारी 
मीडिया को इनके स्टिंग ऑपरेशन नहीं दिखते है

6500 किसानो ने की है आत्महत्या हुई पर महाराष्ट्र सरकार ने सिर्फ 1500 किसान परिवारों को ही मुआवजे के लायक समझा है या फिर
मुआवजे की रकम भी खा गई होगी इसके कोई शक नहीं शायद रेपोर्टिंग करने वाले भी बिक गए इसलिए यह खबर आई नहीं  अन्न दाताओं ने अन्न उत्पादन करने के बदले सिर्फ मौत पाई 

आखिर यह मीडिया देश विरोधी और बॉलीवुड के तलवे क्यूँ चाटती है

यह बात साबित हो चुकी है कि मीडिया का एक खास वर्ग हिन्दुत्व का विरोधी है, इस वर्ग के लिये भाजपा-संघ के बारे में नकारात्मक प्रचार करना, हिन्दू धर्म, हिन्दू देवताओं, हिन्दू रीति-रिवाजों, हिन्दू साधु-सन्तों सभी की आलोचना करना एक “धर्म” के समान है। इसका कारण हैं, कम्युनिस्ट-चर्चपरस्त-मुस्लिमपरस्त-तथ…ाकथित सेकुलरिज़्म परस्त लोगों की आपसी रिश्तेदारी, सत्ता और मीडिया पर पकड़ और उनके द्वारा एक “गैंग” बना लिया जाना। यदि कोई समूह या व्यक्ति इस गैंग के सदस्य बन जायें, प्रिय पात्र बन जायें तब उनके और उनकी बिरादरी के खिलाफ़ कोई खबर आसानी से नहीं छपती। जबकि हिन्दुत्व पर ये सब लोग मिलजुलकर हमला बोलते हैं। ठीक वैसे ही  जैसे जब किसी गली का कोई एक कुत्ता भोकने लगता है >इन रिश्तेदारियों पर एक नज़र डालिये। आप खुद ही समझ जायेंगे कि कैसे और क्यों “मीडिया का अधिकांश हिस्सा हिन्दुओं और हिन्दुत्व का विरोधी है। किस तरह इन लोगों ने एक ‘नापाक गठजोड़’ तैयार कर लिया है। किस तरह ये सब लोग मिलकर सत्ता संस्थान के शिखर के करीब रहते हैं। किस तरह से इन प्रभावशाली (?) लोगों का सरकारी नीतियों में दखल होता है। यहाँ देखिए  इनके रिश्ते :

भारत की मीडिया सेकुलरो और वेश्याओं का झुंड मात्र है

वर्तमान परिस्थितों को देखते यह साफ समझा जा सकता है की कौन बेईमान है और कौन इमानदार ? देश के चौथे स्तम्भ की वेश्यावृति अब प्रत्यक्ष रूप से सामने गयी है, स्टार न्यूज का दीपक चौरसिया , बाबा के बॉडी लौन्गेवज समझने लगा है ( जो आज तक अपनी लैंग्वेज नहीं सुधार पाया), कल का छोकरा राहुल कंवल को आरएसएस का साथ होना, बेईमानी लगती है ( इस लड़के की  निष्पक्ष पत्रकारिता देखिये ) . पहले इन चैनलों के खाते चेक होने चाहिए की , कांग्रेस का बिस्तर गर्म करने के लिए इनके मालिकों ने कितना पैसा लिया.

मीडिया के रुख को पहले दिन से देखें तो मामला साफ  हो जाता है. जैसे ही यह बात आती है की बाबा अनशन करेंगे, मीडिया उनके बैंक खाते , उनके चार्टर्ड प्लेन और उनके व्यक्तिगत धन का ब्यौरा दे कर जनता के मन में उनके खिलाफ ज़हर भरने लगती है. उनके देशहित के मुद्दे को राजनितिक खेल कहा जाता है. आइये उसके द्वारा उठाये गए सवालों की बत्ती बनाएं .. आप  कह रहे हो की बाबा के पास करोडो हैं ,  और फिर पूछते हो की खर्च कहाँ से हुआ. क्या कांग्रेस ने इतना दिया की दिमाग ख़राब हो गया?

  1. बाबा के पास अकूत धन है, कई अचल संपतियां है और कई करोड़ रुपये है. ( जैसा की स्टार न्यूज , आज तक जैसी कई नामी वेश्याओं ने कहा )देश के संविधान में सम्पति रखने की छुट है. बाबा क्या तेरा बाप भी अपने औकात से सम्पति कमा के रखा है , और चैनल वाले भी सम्पति रखने के लिए कार्यक्रम चला रहे है. यह सवाल पूछे वाला यह पहले खुद से पूछे की उसने सम्पति कमाने में क्या कसर छोड़ी? बाबा ने सम्पति जमा की , तो अपने पुरुषार्थ से की, अपने दम पर की. उनके संपति पर नज़र डालने वाले को उनके खिलाफ व्यक्तिगत दुश्मनी रखने वाला माना जाये. बाबा अपनी सम्पति का क्या करते हैं, किसे देते हैं ..यह उनका फैसला है .. वह किसी भडवे पत्रकार से पूछ कर नहीं करेंगे. और अब अगर सरकार को यह लगता है की बाबा ने सम्पति गलत तरीके से अर्जित की है, और वह जांच की मांग करती है , तो यह निहायत हीं पांचवे क्लास के बच्चे द्वारा किये हाय हरकत जैसा है ,

    जब राहुल गाँधी, कानून के प्रतिब्द्न्ध के वाबजूद भट्टा परसौल जाता है, किसानो के सामने घडियाली आंसू रोता है,  तो यहीं दोगली मीडिया इसे राहुल की कामयाबी के रूप में पेश करता है. क्या वह भट्टा-परसौल के वाकये का राजनीतक फायदा उठाना नहीं है. क्या राहुल जैसे अन्य टुच्चे कान्ग्रेसिओं ने एक के बाद वहां फिराफ्तरी देकर .. ड्रामा नहीं किया.तो ड्रामा कौन नहीं करता ..

    परन्तु बाबा के सच्चे ड्रामे में लाखों लोगों की आस्था है. और जब ड्रामा १ लाख लोग करेंगे, तो ड्रामा कहने वाले बुर्का दत्त जैसे पतित पत्रकारों को अपना मुंह बंद कर, पत्रकारिता छोड़ पान की दुकान खोलनी चाहिए. क्योंकि ऐसी बिना सर पैर के बातों की उम्मीद पान की दुकान पर सुनने कहने के लिए हैं. मीडिया की आवाज बन कर देश के लोगो को बरगलाने के लिए नहीं.

  2. राहुल करे तो रासलीला , बाबा करें तो करेक्टर ढीला .. |  ड्रामा तो राहुल करता है, कभी दलित के घर रोटी खा कर , तो कभी राष्ट्र-उत्थान के लिए किसानो की प्रगति को अपरिहार्य बता कर. क्या उसे पता नहीं , की मनमोहन किसके इशारे पर काम करता है. ड्रामा तो मनमोहन करता है , उसके पहले दसवीं पास होने के सर्टिफिकेट, वेरीफाई होने चाहियें. कहाँ तो सबसे बड़ा अर्थशाष्त्री हो कर देश का अर्थशाश्त्र सुधारने बैठा था..घर का अर्थ शास्त्र भी नहीं सुधार पाया!
  3. बाबा के पंडाल इत्यादि पर करोडो का खर्च हुआ , वह पैसा कहा से आया ? बाबा को आरएसएस का साथ हैकरोड़ों क्या , अरबों का खर्च होगा. बाबा ने धन रिजर्व बैंक से नहीं लिया , राज्य के खजाने से नहीं लिया तो परेशानी क्या है. एक तरफ तो यहीं मीडिया बाबा के पास अकूत धन होने की बात पर मुहर लगता है फिर उनके खर्चे पर सवाल उठता है. यह तो मानसिक दिवालियापन है.
  4. आर एस एस का साथ है ?  हाँ है ! यह बहुत सौभाग्य की बात है
  5. पोलिटिकल एजेंडा है ?हाँ हैं ..तो इसमें बुरा क्या है. पॉलिटिकल क्या सिर्फ लालू, मुलायम, करुणानिधि, पिग्विजय, मायावती जैसे लोगो के लिए ही है क्या ?

    राजनीति श्रीकृष्ण से शुरू हुई अब बॉलीवुड के भांड राजनीति नहीं करते तो क्या हम उनके पीछे चले ?  ये भांड  ही है बॉलीवुड के जो अब तक देश के सबसे पवित्र व्यक्ति है मीडिया को इन लोगो मे कोई गंदगी नहीं दिखाई देती भले ही कितने अनेतिक आचरण और भ्रष्टाचार यही से आते हो !

    आरएसएस शुरू से ही देशहित के लिए समर्पित संस्था रही है.. राष्ट्रहित के लिए आर एस एस का साथ लिया तो क्या बुरा किया. बाबा के पंडाल के बाहर यह तो नहीं लिखा न , की कांग्रेस और कुते नहीं आ सकते. या राहुल कँवल नहीं जा सकता , या चौरसिया नहीं घुस सकता. तो बाबा के साथ जो है ..वह है.. सवाल यह नहीं की कौन साथ है ? सवाल यह है की क्यूँ साथ है.? अब कौन कौन साथ है ..बोलकर क्यूँ साथ है को ढकने की कोशिश की जा रही है.

  6. अभी बाबा यह सब पौलिटिक्स में आने के लिए कर रहे : विनोद दलाल तो इसमें भी क्या बुराई है. सभी को पोलिटिक्स में जाने का हक़ है .. बाबा भी अगर जाना चाहें तो उन्हें रोक लोगे ? कम से कम जनता का समर्थन लेकर जा रहे हैं. मनमोहन तो ऐसा ही बैठ गया , सोनिया के तलवे चाट कर. इन भ्रष्ट चैनलों की मानें , तो रामावतार होने की प्रतीक्षा की जाये. ताकि स्वयं भगवान् आकर अनशन करें और उनपे कोई सवाल नहीं हो.यह हर आम आदमी जनता है , कि आज के समय में दूध का धुला कोई नहीं. लाग -लपेट , लोचा करना पड़ता है. हम सभी एक घर सँभालने में दस लोचे करते हैं , तो भला इतने बड़े उद्देश्य के लिए, लोचे को एक्सेप्ट क्यूँ है करते. मैंने यह बात पहले भी लिखी और आज फिर दुहरा रहा हूँ. राम चौदह कलाओं से परिपूर्ण थे, कृष्ण सोलह से (जिसमे छल , कूटनीति जुड़े ) और आज किसी रामदेव को अट्ठारह कलाओं से युक्त होकर ही कार्य करना होगा. और वह कला होगी राजनीती और कूटनीति. इसलिए बड़े बदलाव की अपेक्षा रखने वालों , यह बात गौर से अपने जेहन में बैठा लो , कीचड़ साफ़ करने लिए कीचड़ मे ही उतरना होगा.
Signature
Tagged with: , , , , , ,
Posted in India

Clean Kabirvad

Jeevan Jyot Kendra, Junagadh is the state co-ordinating body of Ocean cleaning program in Gujarat under International NGO Ocean Conservatory(USA).
YOUTH HOSTEL ASSOCIATION OF INDIA –  BHARUCH UNIT – (027 – GUJ- 42) GUJARAT STATE BRANCH  is one of the participating organization for Kabirvad Cleaning program.

Dear Friends.,

Please find details about International Event સ્વચ્છસાગર૨૦૧૧ during August-September 2011. We(means YHAI-Bharuch Branch) are going to organize સ્વ્ચ્છકબીરવડ૨૦૧૧ as a part of સ્વચ્છ સાગર૨૦૧૧ international event in the end of August 2011. We require volunteer for above activity. If you know people who are interested in such environment friendly activity, please do inform them and invite them to join સ્વ્ચ્છકબીરવડ૨૦૧૧  event in the end of August-2011.  We will announce date within short period (may be last Sunday of August- 2011 or  whichever we will decide together )

Anyone can join this event who are interested in Cleanup campaign & support this noble cause. Please circulate this massage among your friends..

Mother NGOs will provide necessary kits and certificate of participation to all volunteers.

It is necessary to register name in advance so we can prepare kits as per no of participation. Volunteer will have to report at Madhi on the bank of river Narmada.(near Mangaleshwar village end).

  • If someone wants to join us as volunteer can register his name with following persons or want to know more, please feel free to contact us..

Nitin Bhatt (GACL)- 9429285698, 9033985471,
(Prakruti Farm,  PO : Amleshwar, Dist: Bharuch-392012)

Naresh Chauhan ( GNFC) – 9898097664 -(YHAI BHARUCH UNIT) 

G. S. Dabhi (GNFC) – 9662547630
————————————————————————————————————————-

  • About NGOs joining in event:
  • Over the last 25 years Ocean Conservancy a US based NGO, organizes Coastal Clean-up with NGO’s worldwide. Founded in 1972, OC is an environmental non-profit advocacy organization that promotes healthy and diverse ocean ecosystems and opposes practices that threaten ocean life and human life.
    In India, Indian Maritime Foundation (IMF) acts as National Coordinator for Ocean Conservancy.
  • IMF is a non-profitable organisation, registered in Pune as a charitable trust. It has branches in Delhi, Mumbai and Chennai. It was established by n December 1993 by a group of officers who have served in the Indian Navy, the Indian Merchant Marine and other professions. They have dedication and a high sense of commitment to this cause of public service they have embarked upon.
  • Jeevan Jyot Kendra is a non-governmental organization, registered as a public charitable trust (E-751) with the Charity Commissioner, Junagadh in October 1982. The main aim of Jeevan Jyot Kendra is to contribute to build urban & rural India where all people can gain access to education, health care & livelihood opportunities & where all Indians can realize their full potential.
  • About International Coastal Clean-up:
    An Ocean is critically important to every one of us. It creates countless jobs & fuels prosperity; it provides us with food to eat, water to drink, & oxygen to breathe; & it regulates our climate. Whether we live on a beach or far from the coastline, we all have a profound stake in an ocean that is healthy & abundant. Yet we are trashing our planet’s life-support system. Year after year, the glut of items polluting our seas extends to the most remote corners of the globe, choking economies, killing wildlife,
    & impacting communities & human health.
  • Each year, thousands of whales, dolphins, seals, & sea turtles die as “by catch” — animals accidentally injured or killed in fishing operations. When people see photographs of animals like endangered sea turtles or whales eating or entangled in debris, they demand action. Speeding ships in some of the busiest marine highways also pose a huge threat to endangered whales. On top of this, pollution & trash
    are poisoning & choking animals along our coastlines.
  • Ocean ecosystems play a vital role in all living things — on land & underwater. Hence our mission is to protect sea animals from careless human behaviour simultaneously keeping the river streams clean & creating & awareness among citizens.
Kabirvad

Kabirvad


Signature
Tagged with: , , , , ,
Posted in India, social service, Travel

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 4 other followers